आज का इतिहास 26 दिसंबर (देश-विदेश)


आज ही के दिन यानि 26 दिसंबर को भारत सहित विश्व इतिहास की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार है–

1530 – मुगल शासक बाबर का आगरा के समीप धोलपुर क्षेत्र में निधन हुआ।



1606 – शेक्सपियर ने अपने लोकप्रिय नाटक किंग लियर को पहली बार इंग्लैंड के राजा जेम्स प्रथम के दरबार में पेश किया।
1666 – सिख धर्म गुरु गोविन्द सिंह का जन्म हुआ।
1748 – फ्रांस और आस्ट्रिया के बीच दक्षिणी हालैंड को लेकर समझौते पर हस्ताक्षर किये गये।
1805 – आॅस्ट्रिया और फ्रांस ने प्रेसबर्ग संघि पर हस्ताक्षर किए।
1831 – कवि हेनरी लुईस विवियन डेरोजियो का कलकत्ता (अब कोलकाता) में निधन हुआ।
1893 – चीन में कम्युनिस्ट पार्टी के संस्थापक और अध्यक्ष माओ ज़े तुंग का जन्म हुआ।

यह भी जानें : 25 दिसंबर की भारत सहित विश्व की प्रमुख घटनाएं

1896 – जर्मनी के इतिहासकार हेनरी टोराइचके का निधन हुआ। उनके द्वारा लिखा गया जर्मनी का इतिहास बहुत महत्वपूर्ण और विश्वसनीय माना जाता है।
1899 – क्रांतिकारी ऊधम सिंह का जन्म हुआ।
1904 – दिल्ली से मुंबई के बीच देश की पहली क्रॉस कंट्री मोटरकार रैली का उद्घाटन हुआ।
1925 – तुर्की में ग्रेगोरियन कैंलेडर अपनाया गया।
– भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना हुई।

पढ़े : भारतीय व विश्व इतिहास में 27 दिसंबर का दिन

1933 – अमेरिकी इंजीनियर होवार्ड आर्मस्ट्रांग ने एफएम रेडियो का पेटेंट हासिल किया।
1935 – वेस्टइंडीज के महान विकेटकीपर बल्लेबाज रोहन कन्हाई का जन्म हुआ। उन्होंने 79 टेस्ट में 15 शतकों के साथ 6227 रन बनाए और 50 कैच लपके।
1865 – जेम्स एच. मेसन ने कॉफी पर कोलेटर का पेटेंट कराया।
1977 – सोवियत संघ ने पूर्वी कजाख क्षेत्र में परमाणु परीक्षण किया।
1978 – भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को जेल से रिहा किया गया।
1979 – पूर्व सोवियत संघ की लाल सेना ने अफ़ग़ानिस्तान पर अधिकार करके एक स्वतंत्र देश के विरुद्ध अपनी सबसे लम्बी कार्रवाई का आरंभ किया।
1982 – टाइम मैगजीन ने कम्प्यूटर को 'मैन आॅफ द ईयर' घोषित किया।
2003 – रिक्टर पैमाने पर 6.6 की तीव्रता वाले भूकंप से ईरान के दक्षिणी पूर्वी शहर बाम में भारी तबाही हुई।
2004 – रिक्टर पैमाने पर 9.3 की तीव्रता वाले भूकंप से आई सूनामी के कारण श्रीलंका, इंडिया, इंडोनेशिया, थाईलैंड, मलेशिया, मालदीव और आस पास के क्षेत्रों में भारी तबाही हुई और 2,30,000 लोगों की मौत हुई।
2012 – चीन की राजधानी बीजिंग से ग्वांग्झू शहर तक बनाए गए दुनिया के सबसे लंबे हाई स्पीड़ रेलमार्ग को खोला गया।

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *