जानिए, दुनिया की सबसे तेज बुलेट ट्रेनों के बारे में


दुनिया की सबसे तेज ट्रेनों का विश्व रिकॉर्ड 603 किमी/घंटा
● जापानी मैगलेव ट्रेन अक्टूबर 2016 में 603 किमी/घंटे की स्पीड से दौड़ी, जो विश्व रिकॉर्ड है। इसने 10.8 सेकंड तक 600 किमी/घंटे से अधिक की स्पीड बनाए रखी और 1.8 किमी दूरी तय की।
● अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया भी हाई स्पीड मैगलेव शुरू करने जा रहे हैं।


हाई स्पीड मैगलेव
कहां :
जापान, चीन
रफ्तार : 430 किमी/घंटा
मैलगेव यानी मैग्नेटिक लेविटेशन : चुंबकीय
सस्पेंशन पर काम करने वाली तकनीक
● चीन की शंघाई मैगलेव को दुनिया की सबसे तेज ट्रेन कहा जाता है। यह वर्ष 2004 से ही शंघाई एयरपोर्अ से 30.5 किमी दूर पुडोंग शहर को सिर्फ 7 मिनट 20 सेकंड में जोड़ रही है। इस पर 120 करोड़ डॉलर का खर्च आया। शुरूआती दो साल में ही इसे 15.30 करोड़ डॉलर का घाटा हुआ। आज भी इसमें क्षमता के मुकाबले 20 प्रतिशत यात्री ही बैठते हैं।
● शंघाई-पुडोंग के बीच एक तरफ का टिकट आठ डॉलर यानी करबी 510 रुपये है। वीआईपी टिकट के लिए दोगुनी कीमत।

ई5 सीरजी शिनकनसेन
कहां :
जापान
रफ्तार : 320 किमी/घंटा
● शिनकनसेन (हाई स्पीड बुलेट ट्रेन के लिए जापानी नाम) 10-10 कोच को 59 यूनिट के साथ 2011 से सेवाएं दे रही है।
● इसीकी एच5 सीरीज मार्च 2016 में सेवा में आई।
● दो प्रमुख कंपनियों ने इसके चार सेट बनाए हैं। इसमें करीब 16.5 करोड़ डॉलर की लागत आई।

यूरोस्टार ई320
कहां :
इंग्लैड, फ्रांस
रफ्तार : 320 किमी/घंटा
● 400 मीटर लंबी यह ट्रेन इंग्लैंड में नवंबर 2015 से शुरू हुई है।
● पेरिस से ब्रुसेल्स के बीच ऐसी करीब 17 ट्रेने, 16-16 कोच के साथ चलाई जा रही हैं।
● इसे जल्द ही एम्सटरडम, फ्रैंकफर्ट, कोलोन और फ्रांस के कुछ और शहरों से जोड़ा जाएगा।

टीजीवी डुप्लेक्
कहां :
फ्रांस
रफ्तार : 320 किमी/घंटा
● फ्रांस की हाई स्पीड ट्रेन चलाने की यह तकनीक यहां की सरकारी नेशनल सोसाइटी ऑफ फ्रेंच रेलवे कॉरपोरेशन के अधीन है और यह ट्रेन 1981 से सेवाएं दे रही हैं।
● इसकी अधिकतम स्पीड 380 किमी/घंटे है।
● 508 यात्री बैठने की क्षमता। फ्रांस में अभी 160 टीजीवी चल रही है। 89 डबल डेकर।

आईसीई 3
कहां :
फ्रांस, यूरोप
रफ्तार : 320 किमी/घंटा
● इसे इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट (ईमू) के परिवार की ट्रेन कहा जाता है। ईमू में अलग से इंजन लगाने की जरूरत नहीं होती।
● साल 2000 से यह ट्रेन फ्रांस में सेवाएं दे रही है।
● इसे नीदरलैंड, बेल्जियम, जर्मनी जैसे देशों के लिए भी उपयोग किया जाने लगा है।

एवीई क्लास 103
कहां :
स्पेन
रफ्तार : 310 किमी/घंटा
● सरकारी कंपनी रेनेफ ऑपराडोरा स्पेन में इस ट्रेन को वर्ष 2006 से चला रही है।
● जरूरत पड़ने पर इसकी स्पीड 350 किमी/घंटे तक पहुंच सकती है।
● मैड्रिड से बार्सिलोना की 621 किमी की दूरी सिर्फ ढाई घंटै में पूरी करती है।
● इसमें करीब 400 यात्री बैठ सकते हैं। ऐसी कुल 26 ट्रेनें सेवाएं दे रही हैं।

केटीएक्स
कहां :
दक्षिण कोरिया
रफ्तार : 305 किमी/घंटा
● हाईस्पीड इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट-हेमू 2013 में परीक्षण के दौरान 430 किमी/घंटे की रफ्तार से दोड़ी। केटीएक्स नाम से 2011 से सेवा में।
● दक्षिण कोरिया जापान, फ्रांस, चीन के बाद 420 किमी/घंटे की स्पीड पाने वाला चौथा देश बना।
● 378 यात्री क्षमता वाली केटीएक्स-3 के लिए सियोल से बुसान की 423 किमी की दूरी 110 मिनट में पूरी करने का लक्ष्य रखा गया है।

ईटीआर
कहां :
इटली
रफ्तार : 300 किमी/घंट
● इंटीआर ट्रेनों की नई पीढ़ी फ्रेसियारोसा-1000 इटली में 2015 से 50 ट्रेन के साथ सेवाएं दे रही है।
● तूरीन से मिलान के बीच फरवरी 2016 में यह ट्रेन 393.8 किमी/घंटे की स्पीड हासिल कर चुकी है।
● वहीं, रोम से मिलान को 579 किमी दूरी ईटीआर 1000 औसतमन 2 घंटे 20 मिनट में पूरी कर रही है।

सीआरएच
कहां :
चीन
रफ्तार : 300 किमी/घंटा
● साल 2004 में चीन के रेल मंत्रालय ने जापान की कंपनी से सीआरएच के 60 सेट खरीदे।
● इन्हें 2007 से चलाया जा रहा है। नई पीढ़ी की सीआरएच 2सी की अधिकतम रफ्तार 300 किमी से 350 प्रति घंटे तक सुरक्षित तरीके से बढ़ाई जा सकती है।

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *