जानिये, ओलम्पिक खेलों से जुड़े महत्वपूर्ण रोचक तथ्य


यूनान की राजधानी एथेंस में 4 अप्रैल, 1896 को पहले आधुनिक ओलंपिक खेल का प्रथम आयोजन हुआ था। इसके बाद चार वर्ष के अन्तराल में ओलम्पिक खेल क्रमश: विश्व के विभिन्न स्थानों पर आयोजित होते आ रहे हैं। आइये जाने, ओलम्पिक खेलों से जुड़े महत्वपूर्ण व रोचक तथ्य–

– प्राचीन ओलम्पिक खेलों में विजेताओं को पुरस्कारस्वरूप जैतून का ताज दिया जाता था।
– आधुनिक ओलम्पिक खेलों के जन्मदाता पियरे बैरनडि कु​बर्तिने को माना जाता है, वे फ्रांस के नागरिक थे।
– यूनान की राजधानी एथेंस में 4 अप्रैल, 1896 को आधुनिक ओलम्पिक खेल का प्रथम आयोजन हुआ।
– ओलम्पिक का आदर्श वाक्य है-'और तेज, और ऊँचा और बलशाली' (अल्टियस, सिटियस, फोर्टियस)।
– ओलम्पिक ध्वज 1914 ई. में पियरे डि कुबर्तिन के सुझाव पर बनाया गया।
– ओलम्पिक ध्वज सिल्क का बना होता है। इस ध्वज पर पाँच छल्ले आपस में जुड़े अंकित होते हैं। इन छल्लों का रंग क्रमश: नीला, पीला, काला, हरा एवं लाल होता है। ये छल्ले महादेशों के प्रतीक हैं और आपसी सद्भाव को प्रदर्शित करते हैं।

यह भी पढ़े : ओलम्पिक खेल का इतिहास–1896 से अबतक

– ओलम्पिक ध्वज को सर्वप्रथम एंटवर्प ओलम्पिक सन् 1920 में फहराया गया।
– ओलम्पिक चिन्ह ओलम्पिक चिन्ह आपस में जुड़े 'पाँच छल्ले' हैं इनका रंग क्रमश: नीला, पीला, काला, हरा एवं लाल होता है। ओलम्पिक चिन्ह निष्पक्ष एवं मुक्त स्पर्धा का प्रतीक है।
– लंदन ओलम्पिक (1908) खेल में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पाने वाले खिलाड़ियों देशों को क्रमश: स्वर्ण, रजत एवं कांस्य पदक प्रदान करने की परम्परा आरम्भ की गयी।
– ओलम्पिक खेलों के दौरान मुख्य स्टेडियम में ओलम्पिक ज्योति (फ्लेम) प्रज्वलित करने की परम्परा बर्लिन ओलम्पिक (1936) में शुरू हुई।
– ओलम्पिक गान की रचना 19वीं शताब्दी में यूनान के संगीतकारों स्पिरॉस सामारास एवं 'कोस्तिम पालामास' ने की। जिसे 1958 ई. में अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति ने इसे मान्यता प्रदान की। यही गान प्रत्येक ओलम्पिक खेल के उद्घाटन एवं समापन समारोह में गाया जाता है।
– आधुनिक ओलम्पिक खेलों का प्रथम स्वर्ण पदक जेम्स कानोली (सं.रा. अमरीका) तिकड़ी कूद में जीता।
– ओलम्पिक खेल में स्वर्ण पदक जीतने वाला प्रथम एशियाई खिलाड़ी मिकिओ ओडा (जापान) एमस्टरडम ओलम्पिक (1928) में तिकड़ी कूद में जीता।
– लॉस एंजिल्स ओलम्पिक (1932) खेल के दौरान खिलाड़ियों और प्रशिक्षकों के ठहरने हेतु 'ओलम्पिक गाँव' का निर्माण किया गया था।
– 1928 के ओलम्पिक में महिलाओं ने पहली बार ट्रेक एंड फील्ड स्पर्धाओं में हिस्सा लिया।
– भारत ने आधिकारिक तौर पर पहली बार एंटवर्प ओलम्पिक (1920) में भाग लिया।
– इसके पूर्व में आंग्ल भारतीय समुदाय के नार्मन प्रिचार्ड भारतीय एथलीट ने पेरिस ओलम्पिक (1900) में 200 मी. स्प्रिंट और 200 मी बाधा दौड़ में रजत पदक जीता।
– ओलम्पिक फुटबाल में रैफरी का दायित्व निभाने वाली विश्व की प्रथम महिला होने का सम्मान कनाडा की सोनिया डेनानकोर्ड (अटलांटा ओलम्पिक) को प्राप्त है।
– सर्वप्रथम ओलम्प्कि खेलों में हॉकी में भारत ने 1928 (एम्सटर्डम ओलम्पिक, हॉलैण्ड) में प्रवेश किया।
– ओलम्पिक खेलों की एथलेटिक्स प्रतिस्पर्धाओं के फाइनल में पहुँचने वाला प्रथम भारतीय एथलीट मिल्खा सिंह (1960 रोम ओलम्पिक) था।
– ओलम्पिक खेलों में हॉकी महिला टीम ने पहली बार 1980, मास्को ओलम्पिक में भाग लिया था।
– ओलम्पिक खेलों में किसी स्पर्धा में एक देश के अधिकतम तीन खिलाड़ी भाग ले सकते हैं।
– ओलम्पिक खेलों के स्वर्ण पदक में स्वर्ण की प्रतिशतता पदक का 5.2% होती है।
– ओलम्पिक खेलों के स्मारक के रूप में 1952 में मुद्रा जारी करने वाला पहला देश फिनलैंड है।
– ओलम्पिक ज्योति को प्रज्वलित करने वाली पहली महिला एनरिकेटा बैसिलियों (मैक्सिको सिटी ओलम्पिक, 1968) है।
– ओलम्पिक मशाल ओलम्पिक खेल प्रारम्भ होने से कुछ दिन पूर्व यूनान के ओलम्पिया गाँव के 'जियस' के मन्दिर से लाई जाती है। वहाँ इसे सूर्य की किरणों से प्रज्वलित किया जाता है।
– बर्लिन ओलम्पिक (1936) में ओलम्पिक मशाल जलाने की प्रथम को पुन:शुरू किया गया।
– प्रथम और द्वितीय विश्वयुद्धों के कारण क्रमश: 1916 और 1940 व 1944 में ओलम्पिक खेलों का आयोजन नहीं हो सका था।
– 1972 के म्यूनिख ओलम्पिक में आतंकवादियों ने ग्यारह इस्रायली खिलाड़ियों की हत्या कर दी थी।
– 1980 के मास्को ओलम्पिक का अमरीकी खेमे ने बहिष्कार किया था, तो 1984 के लांस एंजिल्स मुकाबलों में साम्यवादी खेमा बाहर रहा।
– अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉन एफ. केनेडी ने एक बार कहा था कि अंतरिक्ष यान और ओलंपिक स्वर्ण पदक ही किसी देश की प्रतिष्ठा का प्रतीक होते हैं।

Loading...

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *