शरीर के विभिन्न अंगों से संबंधित मुहावरे और अर्थ

idioms and phrases on body parts

शरीर के विभिन्न अंगों से संबंधित मुहावरे (Idioms and Phrases using Body Parts) की सूची हम यहां दे रहे है। सामान्य हिन्दी में मुहावरें उसका आवश्यक पार्ट है। इसके बिना हिंदी भाषा अधूरी है। हमारे शरीर के विभिन्न अंगों पर भी अनेक मुहावरें अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते है। जिसके अध्ययन से आपके 2 नंबर पक्के हो जाते है। तो आइये शरीर के संबंधित मुहावरे की सूची का अभी अध्ययन कर लीजिए।


मन – मन बढ़ाना, मन के लड्डू खाना, मन में बसना, मन भरना, मन रखना, मन में उतरना, मन डोलना, मन मिलना, मन फटना, मन मारकर बैठना, मनमौजी (मनमाना) होना, मन लगाना, मन की प्यास, मनमाने की बात, मन की जलन, मन ही मन लड्डू खाना।
पीठ – पीठ तोड़ना, पीठ ठोंकना, पीठ फेरना, पीठ पर लेा, पीठ दिखाना, पीठ पर होना, पीठ पोछना।
पेट – पेट काटना, पेट का हल्का, पेट की आग, पेट में दाढ़ी होना, पेट में पाँव होना, पेट में बल पड़ना, पेट बढ़ना, दाई से पेट छिपाना, पेट में पानी न पचना, पेट का सवाल, पेट में चूहे कूदना, पेट पर पट्टी बाँधना, पेट दिखाना, पेट की बात लेना, पेट में आग लगना, पेट पीठ सटकर एक होना।
गर्दन – गर्दन उठाना, गर्दन झुकाना, गर्दन पर सवार रहना, गर्दन उड़ाना, गर्दन पर छुरी फेरना, गर्दन काटना।
बाल – बाल बाँका न होना, बाल पकाना, बाल बराबर न समझना, बाल—बान बचना, बाल की खाल निकालना, बाल धूप में सफेद न होना।
सिर – सिर आँखों पर, सिर उठाना, सिर उठना, सिर खाना, सिर चढ़ना, सिर चढ़ाना, सिर धुनना, सिर ऊपर होना, सिर पर उठा लेना, सिर पर खून सवार होना, सिर फिरना, सिर मुड़ाते ही ओले पड़ना, सिर पर अंगार धरना, ओखली में सिर देना, सिर गंजा करना, सिर पर कफन बाँधना, सिर पाँव रखकर भागा, सिर पर भूत सवार होना, सिर पर सवार रहना, सिर नीचा होना।
माथा – माथा कूटना, माथा ठनकना, माथे चढ़ाना, माथा-पच्ची करना, माथा पीटना, माथे लगाना, सिर माथे पर।
आँख – आँख उठाकर न देखना, आँख खुलना, आँख दिखाना, आँखें नीली-पीली करना, आँख फेरना, आँख में खटकना, आँखों में चर्बी छाना, आँखों में चुभना, आँखों में धूल झोंकना, आँख लगना, आँख सेंकना, आँख में खून उतरना, आँख फाड़ कर देखना, आँखों का पानी गिर जाना, आँखें चार होना, आँख बिछाना, आँख में रात काटना, आँख तरसना, आँखों में सरसों फूलना, आँख का काजल चुराना, आँख गड़ाना, आँखें ठण्डी करना, आँखों में पर्दा पड़ना, आँख का काजल, आँख रखना, आँख तरेरना, आँखें नीची होना, आँखें पथरा जाना, आँखें मूँदना, आँखों में गड़ जाना।

कान – कान उठाना, कान कतरना, कान खा जाना, कान पकड़ना, कान भरना, कानों में तेल डालकर बैठना, कान लगाना, कान हिलाना, कानों पर हाथ धरना, कान खड़ें होना, इस कान से सुनना उस कान से उड़ा देना, कान पर जूँ न रेंगना, कानो–—कान खबर न होना, कान काटना, कान खोलना, कान गरम करना, कान में डालना, कान में पड़ना, कान ऐंठना, कान का कच्चा होना, कान पकना, कान देना, कान पकड़ना।
नाक – नाक रख लेना, नाक रगड़ना, नाक पर मक्खी न बैठने देना, नाक-कान काटना, नाक में नकेल डालना, नाक–भौं चढ़ाना, नाक काटना, नाक का बाल देना, नाक चोटी काटकर हाथ में देना, नाक में कौड़ी डालना, नाको चने चबाना, नाक में दम करना, नाक पर गुस्सा होना, नाक होना, नाक में दम आना, नाक कटाना।
मुँह – मुँह भरना, मुँह में तिनका ले आना, मुँह में पानी भर आना, अपना-सा मुँह लेकर रह जाना, मुँह काला होना, अपने मुँह मियाँ मिट्ठू बनना, मुँह की खाना, मुँह फाड़ना, छोटा मुँह बड़ी बात, मुँह ताकना, मुँह बनना, मुँह-तोड़ जबाव देना, मुँह धोना, मुँह में कालिख पोतना,
मुँह दिखाना, मुँह छिपाना, मुँह उतरना, मुँह पकडना, मुँह बिगाड़ना, मुँह बन्द करना, मुँह लटकना, मुँह पर हवाईयाँ उड़ना, मुँह तोड़ना, मुँह फुलाना, मुँह फूलना, मुँह देखी करना, मुँह से लार टपकना, मुँह खोलना, जितने मुँह उतनी बात,ख् मुँह पर वसन्त खिलना, टका सा मुँह लेकर रह जाना, छोटा मुँह बड़ी बात।
हाथ – हाथ आना, हाथ उठाना, हाथ कट जाना, हाथ खाली होना, हाथ खींचना, हाथ फैलाना, हाथ धोकर पीछे पड़ जाना, हाथ भाँजना, हाथ माँजना, हाथ डालना, रंगे हाथों, हाथ पर हाथ रख के बैठना, हाथ साफ करना, हाथ तंग होना, आड़े हाथों लेना, खूनी हाथ, इस हाथ ले उस हाथ दे, एक हाथ से ताली नहीं बजती, दोनों हाथ लड्डू, दाता का हाथ लगना, खुले हाथ, हाथ-पाँव फूल जाना, हाथ पीले कर देना, हाथ पीले होना, हाथ-पाँव मारना, हाथ मलना, हाथ मारना, हाथों के तोते उड़ जाना, हाथ भर का कलेजा होना, हाथ भर की जबान होना, हाथ लगना, हाथों हाथ।
छाती – छाती पर मूँग दलना, छाती पर पत्थर रखना, छाती पर बाल होना, छाती पर साँप लोटना, छाती ठण्डी करना, गज-भर की छाती होना, छाती छलनी हो जाना, छाती निकालकर चलना, छाती फटना, छाती जलना, छाती धड़कना, छाती जुड़ाना, छाती पीटना, छाती से लगाना।

अंतड़ी – अंतड़ी कुल-बुलाना, अंतड़ी गले पड़ना, अंतड़ियों में बल पड़ना।
अंगूठा – अंगूठे पर मारना, अंगूठा दिखाना, अंगूठा चूमना, अंगूठा बोरना।
उँगली – उँगली दिखाना, उँगली उठाना, उँगली पर नाचना, उँगली पर नचाना पाँचों उँगली घी में होना, उँगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना, टेढ़ी उँगली से घी निकालना।
पैर (पाँव) – अंगार पर पैर रखना, अपने पैरों खडत्रे होना, काँटों पर पाँव रखना, गिनगिन कर पैर रखना, दलदल में पाँव फँसना, पैर उखड़ना, पैर पड़ना, पैर धोना, पाँव बचाना, पैरों तले जमीन खिसकना, पाँव पर कुल्हाड़ी मारना, कब्र में पाँव लटकना, जमीन पर पैर न पड़ना, पाँव फूँक-फूँक कर रखना, पैरों में मेहँदी लगाकर बैठना, पाँव भारी होना, पाँव फिसलना, पाँव में पर लगना, पाँव पटकना।
अक्ल – अक्ल का दुश्मन, अक्ल पर पत्थर पड़ना, अक्ल के पीछे लट्ट लिए फिरना, अक्ल का पुतला, अक्ल चकराना, अक्ल का अंधा, अक्ल की दुम, अक्ल की रोटी खाना, अक्ल चरने वाला।
प्राण – एक प्राण: दो शरीर, प्राणों की परवाह न करना, प्राण दे देना, प्राण पर खेलना, प्राण प्यारा, प्राण-पखेरू उड़ना, प्राण-दान करना, प्राण हथेली पर लेना।
जी (जान) – जान सूखना, जान छूटना, जी खोलकर कहना, जी चुराना, जी-जान से, जान के लाले पड़ना, जान दे देना।
कदम – कदम चूमना, कदम मिलाना, कदम पर कदम रखना, कदम उठाना, कदम ताल करना, कदम उठना, कदम छूना।
कमर – कमर सीधी करना, कमर कसना, कमर टूटना, कमर ढीली होना, कमर बाँधना, कमर लचकाना।
कलेजा – कलेजे पर साँप लोटना, कलेजा ठण्डा होना, कलेजा दो टूक होना, कलेजा खाना, कलेजा पानी होना, काला कलेजा, कलेजा मुँह को आना, कलेजा धक् से रह जाना, कलेजे का टुकड़ा, कलेजा डेढ़ बीता करना, कलेजा थामकर रह जाना, कलेजा पत्थर करना, कलेजे पर पत्थर रखना, कलेजा काढ़ना, कलेजा निकालकर रख देना।
गाल – गाल फुलाना, गाल बजाना, काल के गाल में जाना, गाल पिचकाना, गाल दिखाना, गाल लाल होना।

कोख – कोख की आँच, कोख लजाना, कोख का हीरा, कोख गिराना, कोख गिरना, कोख छिपाना।
दिमाग – दिमाग दिखाना, दिमाग सातवें आसमान पर होना, दिमाग खोना, दिमाग खाना, दिल-दिमाग से।
गला – गले मढ़ना, गले का हार होना, गले लगाना, गले लगना, गले पर छूरी फेरना, गला काटना, गले के नीचे उतरना, गला बैठना, गले पड़ा ढोल बजाना, गला भर आना, गला छुड़ाना, गला टीपना, गले फँसना, गला रेतना, गला दबाना।
दाँत – दाँत से कोड़ी पकड़ना, दाँत पीस कर रह जाना, दाँत खट्टे करना, दाँत काटी रोटी होना, दाँती तले अँगुली दबाना, दाँतों पसीना आना, दाँत निकालना, दाँत दिखाना, दाँत तालू में जमना, दाँत तोड़ना, दाँत गड़ाना, दाँत से दाँत बजना।
तलवा – तलवा खुजलाना, तलवे चाटना, तलव धोकर पीना।
दिल – दिल का गुबार निकालना, दिल के फफोले तोड़ना, दिल में फफोले पड़ना, दिल भर आना, दिल मसोस कर रहा जाना, दिल की गाँठ खोलना।
हथेली – जान (प्राण) हथेली पर लेना, हथेली पर सरसों जमाना (उगाना), हथेली खुजलाना, हथेली पर जान लिए फिरना।
मूँछ – मूँछ न रखना, मूँछों पर ताव देना, मूँछ नीची होना, मूँछ उखाड़ना।
भृकुटि – भृकुटि टेढ़ी होना, भृकुटि चमकाना, भृकुटि विकास।
ह्रदय – ह्रदय (हिये) का हार, ह्रदय का शूल, ह्रदय-सम्राट, ह्रदय के कपाट खुलना, ह्रदय विदीर्ण होना, ह्रदय का काँटा।
बाँह – बाँह पकड़ना, बाँहें फैलाना, बाँहें डालना, बाँहें खींचना, बाँहों में लेना, बाँहों में भरना, बाँह देना।
मुट्ठी – मुट्ठी में होना, मुट्ठी गरम होना, मुट्ठी गरम करना, मुट्ठी-भर अत्र के लिए फिरना, मुट्ठी भर, मुट्ठी भींचना।
टाँग – टाँग अड़ाना, टाँग तोड़ना, टाँग पसार कर सोना, टाँग भिड़ाना, टाँग खींचना, टाँग लड़ाना।
गोद – गोद भरना, गोद लेना, सूची गोद, गोद छिनना, गोद में जाना।
पलक – पलक लगाना, पलक पाँवड़े बिछाना, पलकें भारी होना, भीगी पलकें।

Post a Comment

0 Comments