500+ हिंदी मुहावरे और अर्थ और वाक्य - Hindi Muhavare

हिंदी मुहावरे (Hindi Muhavare) और अर्थ और वाक्य - विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में सामान्य हिंदी के अन्तर्गत आने वाले प्रमुख व महत्वपूर्ण मुहावरे (important idioms) यहां दी जा रही है। जो कि परीक्षाओं में पूछे जा चुके है और आगामी परीक्षाओं में पूछे जायेंगे। सनद रहे कि मुहावरा ऐसा संक्षिप्त वाक्य होता है जो अपने सामान्य अर्थ को छोड़कर किसी विशेष अर्थ को व्यक्त करता है। ऐसे वाक्यों को ही मुहावरा कहते है। जैसे – 'अंगूर खट्टे होना' – प्राप्त न होने पर उस वस्तु को बेकार बताना।


अंग छूना – कसम खाना।
अंग टूटना – शरीर में दर्द होना।
अंग धरना – धारण करना।
अंग लगना – काम में आना।
अंग लगाना – लिपटना।
अंग से अंग चुराना – संकुचित होना।
अंग-अंग ढीले होना – थका होना।
अंगार सिर पर रखना – कष्ट सहना।
अंगारे उगलना – कठोर बात कहना।
अंगारे बरसना – तेज धूप पड़ना।
अंगारों पर लोटना – ईष्या से जलना।
अंगुठा चुसना – खुशामद करना।
अंगूठा दिखाना – तिरस्कारपूर्वक मना करना।
अंगूर खट्टे होना – प्राप्त न होने पर उस वस्तु को बेकार बताना।
अंचल पसारना – नम्रता से मांगना।
अंजर पंजर ढीले होना – अभिमान नष्ट होना अंटी बाज – दगाबाज।
अंटी में रखना – छिपाकर रखना।
अंधा बनना – जान-बूझकर किसी बात पर ध्यान न देना।
अंधे के हाथ बटेर लगना – अनायास ही मनचाही वस्तु मिल जाना।
अंधे के हाथ बटेर लगना – बिना प्रयास भारी चीज पा लेना।
अंधे को चिराग दिखाना – मूर्ख को उपदेश देना।
अंधेर खाता – अव्यवस्था।
अंधेर नगरी – जहां कोई नियम व्यवस्था न हो।
अंधेरे मुंह – पौ फटते।
अ€क्ल का अंधा – मूर्ख, बेवकूफ अ€क्ल का दुश्मन – मूर्ख।
अ€क्ल का पूरा – मूर्ख।
अ€क्ल के घोड़े दौड़ाना – तरह-तरह की कल्पना करना।
अ€क्ल के पीछे लठ लिए फिरना – मूर्खता का काम करना।
अ€क्ल चरने जाना – बुद्धि का न होना।
अ€क्ल चरने जाना – समय पर बुद्धि का काम न करना।
अ€क्ल ठिकाने लगना – होश ठीक होना।
अक्षर से भेंट न होना – अनपढ़ होना।
अदब करना – सम्मान करना।
अपना उल्लू सीधा करना – स्वार्थ सिद्ध करना।
अपना हाथ जगन्नाथ – स्वाधिकार होना।
अपनी की चोट – सामने की चोट।
अपनी खिचड़ी अलग पकाना – सबसे अलग रहना।
अपनी नींद सोना – इच्छानुसार कार्य करना।
अपने मुंह मियां मिट्ठू बनना – अपनी बड़ाई आप करना।
अरण्य रोदन – निष्फल निवेदन।
अरमान निकालना – मन का गुबार पूरा करना।
आंख का तारा होना – बहुत प्रिय होना आंख फेर लेना – प्रतिकूल होना।
आंख बिछाना – प्रतीक्षा करना।
आंख लगना – सो जाना।
आंखों का पानी ढलना – निर्लज्ज बन जाना।
आंखों पर परदा पड़ना – बुद्धि भ्रष्ट होना।
आंखों में धूल झोंकना – धोखा देना।
आंखों में रात कटना – रात-भर जागते रहना।
आंखों में समाना – दिल में बस जाना।
आंच न आने देना – थोड़ी भी हानि न होने देना।
आंचल फैलाना – अति विनम्रता पूर्वक प्रार्थना करना।
आंचल में गांठ बांधना – अच्छी तरह याद कर लेना।
आंधी उठना – हलचल मचना।
आंधी के आम होना – बहुत सस्ती वस्तु मिलना।
आकाश का फूल – अप्राप्य वस्तु।
आकाश कुसुम – अनहोनी बात।
आकाश-पाताल एक करना – कठिन प्रयत्न करना।
आग का पुतला – बहुत क्रोधी।
आग के मोल – बहुत महंगा।
आग पर लोटना – बेचैन होना।
आग बुझा लेना – कसर निकालना।
आग में झोंकना – अनिष्ट में डाल देना।
आग लगने पर कुआं खोदना – पहले से कोई उपाय न कर रखना।
आग से खेलना – जानबूझकर मुसीबत में फंसना।
आग-बबूला होना – गुस्सा होना।
आटे के साथ घुन पिसना – दोषी के साथ निर्दोषी की भी हानि होना।
आड़े हाथ लेना – खरी-खरी सुनाना।
आना-कानी करना – न करने के लिए बहाना करना।
आपे से बाहर होना – अत्यधिक क्रोध से काबू में न रहना।
आसमान के तारे तोडऩा – असंभव कार्य करना।
आसमान सिर पर उठाना – बहुत शोर करना।
आसमान से बातें करना – ऊंची कल्पना करना।
इज्जत बेचना – पैसा लेकर अपनी इज्जत लुटाना।
ईंट का जवाब पत्थर से देना – दुष्ट के साथ दुष्टता का, कठोर के साथ कठोरता का व्यवहार करना।
ईंट से ईंट बज जाना – सर्वनाश हो जाना।
ईद का चांद होना – बहुत अरसे बाद दिखाई देना।
ईमान बेचना – झूठा व्यवहार करना, बेईमानी करना।
उंगलियों पर गिने जा सकना – संख्या में बहुत कम होना।
उंगलियों पर नचाना – इच्छानुसार काम कराना।
उंगली उठना – निंदा होना।
उंगली उठाना – लांछन लगाना।
उंगली पकडक़र पौंहचा पकड़ना – थोड़ा-सा सहारा पाकर विशेष की प्राप्त के लिए प्रयास करना।
उंगली पर नचाना – अपनी इच्छानुसार चलाना।
उड़ती चिड़िया पकड़ना – रहस्य की बात तत्काल जानना।
उड़ती चिड़िया पहचानना – किसी की गुप्त बात जान लेना।
उड़न-छू हो जाना – चला जाना, गायब हो जाना।
उधेड़बुन में रहना – फिक्र में रहना, चिंता करना।
उन्नीस बीस का अंतर होना – बहुत कम अंतर होना।
उम्र ढलना – यौवनावस्था का उतार।
उलटे छुरे से मूड़ना – किसी को उल्लू बनाकर उससे धन ऐंठना या अपना काम निकालना।
उलटे पांव लौटना – तुरंत बिना ठहरे हुए लौट जाना।
उल्टी गंगा बहाना – नियम के विरुद्ध कार्य करना।
उल्टी पट्टी पढ़ाना – बहकाना।
उल्टी माला फेरना – बुरा सोचना।
उल्लू का पट्ठा – निपट मूर्ख।
उल्लू बनाना – मूर्ख बनाना।
उल्लू सीधा करना – स्वार्थ सिद्ध करना।
ऊंच-नीच समझाना – भलाई-बुराई, लाभ-हानि समझाना।
ऊंट के मुंह में जीरा – अधिक आवश्यकता वाले के लिए थोड़ा सामान।
एक आंख न भाना – तनिक भी अच्छा न लगना।

एक आंख से देखना – सबको बराबर समझना।
एक और एक ‚यारह होना – मेल में शक्ति होना।
एक कान सुनना, दूसरे से निकालना – किसी बात पर ध्यान न देना।
एक की दो कहना – थोड़ी बात के लिए बहुत अधिक भला-बुरा कहना।
एक घाट का पानी पीना – एकता और सहनशीलता होना।
एक तीर से दो शिकार करना – एक युक्ति या साधन से दो काम करना।
एक न चलना – कोई युक्ति सफल न होना।
एक मुट्ठी अन्न को तरसना – गरीब होना।
एक लाठी से हांकना – सबके साथ समान व्यवहार करना।
एक ही थैली के चट्टे-बट्टे – एक ही प्रकार के लोग।
एक ही नौका में सवार होना – एक समान परिस्थिति में होना।
एड़ी-चोटी का जोर लगाना – पूरी शक्ति लगाकर कार्य करना।
ओंठ चबाना – क्रोध प्रकट करना।
ओखली में सिर देना – जानबूझकर विपप्ति में फंसना।
औंधी खोपड़ी – बुद्धिहीनता।
कंघी-चोटी करना – श्रृंगार करना, बनाव-सिंगार करना।
कंचन बरसना – बहुत अधिक लाभ होना।
कंठ का हार होना – अत्यंत प्रिय होना।
कंधे से कंधा मिलाना – पूरा सहयोग करना।
कच्चा चबाना – कठोर दंड देना।
कच्चा चिट्ठा खोलना – छिपे हुए दोष बताना।
कच्ची गोली खेलना – अनाड़ीपन, ऐसा काम करना जिससे विफलता हाथ लगे।
कट जाना – बहुत लज्जित होना।
कटी पतंग होना – निराश्रित होना।
कटे पर नमक छिड़कना – दुखी को और दुखी करना।
कठपुतली की तरह नचाना – दूसरों से अपनी इच्छा के अनुसार काम कराना।
कड़वे घूंट पीना – कष्टदायक बात सहन कर जाना।
कन्नी काटना – बचकर निकल जाना।
कबाब में हड्डी – सुखोपभोग में बाधक होना।
कब्र में पांव लटकाना – मौत के निकट आना।
कमर कसना – तैयार होना।
कमर टूटना – हतोत्साहित होना।
करम फूटना – अभागा होना, भाग्य बिगड़ना।
कलई खुलना – पोल खुलना।
कलई खुलना – रहस्य प्रकट होना।
कलेजा छलनी होना – बहुत दुखी होना।
कलेजा ठंडा होना – संतोष होना।
कलेजा थामना – दुख सहने के लिए कलेजा कड़ा करना।
कलेजा निकालकर रख – सब कुछ समर्पित कर देना देना।
कलेजा पसीजना – दया आना।
कलेजा बैठना – घोर दुख होना।
कलेजा मुंह को आना – घबरा जाना।
कलेजे का टुकड़ा – अत्यधिक प्रिय होना।
कलेजे पर पत्थर रखना – चुपचाप सहन करना।
कलेजे पर सांप लोटना – ईर्ष्या से जलना।
कलेजे में आग लगना – दुख देना।
कसौटी पर कसना – अच्छी तरह जांच करना।
कहा-सुनी हो जाना – झगड़ा होना।
कहीं का न रखना – निराश्रय कर देना।
कांटा निकालना – बाधा या खटका दूर करना।
कांटा बोना – बुराई करना।
कांटे बिछाना – मार्ग में बाधा पैदा करना।
कांटों में घसीटना – बहुत दुख देना।
कागज की नाव – न टिकने वाली वस्तु।
कागजी घोड़े दौड़ाना – बहुत पत्र व्यवहार करना।
काटो तो खून नहीं – स्तŽध हो जाना।
काठ का उल्लू – महामूर्ख।
कान कतरना – बहुत चतुर होना।
कान का कच्चा – हर किसी बात पर विश्वास करने वाला।
कान खड़े होना – सावधान होना।
कान पर जूं न रेंगना – असर न होना।
कान भरना – चुगली करना।
कान में फूंक मारना – प्रभावित करना।
कानों में अंगुली डालना – सुनने की इच्छा न होना।
कानों में तेल डालना – ध्यान न देना।
काया पलट होना – रूप, गुण, दशा, स्थिति आदि का पूरी तरह बदल जाना।
कारूं का खजाना – अतुल धनराशि।
काला धन – बेईमानी से कमाया हुआ धन।
काले कोसों – बहुत दूर।
किला फतह करना – अत्यंत कठिन काम करना।
किसी के आगे पानी भरना – किसी की तुलना में फीका पड़ना।
किसी को न गिनना – सबको कमतर समझना।
किसी खूंटे से बांधना – किसी के साथ विवाह करना।
किसी पर बरस पड़ना – एकाएक किसी से क्रोधपूर्वक बातें करना।
किसी पर हाथ छोड़ देना – मारना-पीटना।
किस्मत का फेर – अभाग्य, दुर्भाग्य, जमाने का उलट-फेर।
कीड़े काटना – बेचैनी होना।
कुएं का मेढ़क – कम अनुभवी व्यक्ति।
कुएं में बांस डालना – बहुत दूर तक खोज करना।
कुएं में भांग पड़ना – सब की बुद्धि मारी जाना।
कुत्ता काटना – पागल होना।
कृपा होना – बहुत प्रसन्ना होना।
कोढ़ में खाज – संकट पर संकट।
कोर-कसर न रखना – हर संभव प्रयास करना।
कोरा जवाब देना – साफ इंकार करना।
कोल्हू का बैल – कड़ी मेहनत करते रहने वाला।
कौड़ियों के मोल बिकना – बहुत कम दाम पर बिकना।
खटाई में पड़ना – काम में रुकावट आना।
खाक छानना – दर-दर भटकना।
खाक फांकना – इधर-उधर मारा-मारा फिरना।
खाक में मिलना – नष्ट हो जाना।
खाक में मिलाना – नष्ट कर देना।
खिचड़ी पकाना – गुप्त रूप से षड्यंत्र रचना।
खीस निपोरना – कृपा की प्रार्थना करना।
खुदा की पनाह – ईश्वर बचाए।
खून का घूट पीना – क्रोध को अंदर ही अंदर सहना।
खून के आंसू रुलाना – बहुत अधिक सताना।
खून खौलना – जोश में आना।
खून सफेद हो जाना – दया न रह जाना।
खून सूखना – डर जाना।
खून-खच्चर होना – लड़ाई-झगड़ा होना।
खून-पसीना एक करना – बहुत परिश्राम करना।
खोद-खोदकर पूछना – अनेक सवाल पूछना।
खोपड़ी भिनभिनाना – तंग आना।
ख्याली पुलाव बनाना – कपोल कल्पनाएं करना।
गंगा नहाना – कर्तव्य और दायित्व पूरा करके निश्चिंत होना, सब झंझटों से छुटकारा पाना।
गच्चा खाना – धोखा खाना।
गज भर की छाती होना – बहुत उत्साह होना।
गड़े मुर्दे उखाड़ना – पिछली बुरी बातें याद करना।
गर्दन पर सवार होना – पीछे पड़े रहना।
गले का हार – अत्यंत प्रिय।
गले पड़ना – पीछे पड़े रहना।
गले बांधना – इच्छा के विरुद्ध सौंपना।
गहरा पेट – जिसका भेद न मिले।
गांठ का पूरा – धनी।
गांठ खोलना – अड़चन दूर करना।
गांठ बांधना – याद रखना।
गागर में सागर भरना – थोड़े में बहुत कुछ कहना।
गाजर-मूली समझना – तुच्छ समझना।
गाढ़ी कमाई – कड़ी मेहनत से कमाया हुआ धन।
गाढ़ी छनना – घनिष्ठ मित्रता।
गाल बजाना – बढ़-चढ़कर बातें करना।
गिरगिट की तरह रंग बदलना – अपना मत, व्यवहार, वृत्तििा बदलते रहना।
गीदड़ भभकी – दिखावटी धमकी।
गुड़-गोबर करना – बना बनाया काम बिगाड़ देना।
गुदड़ी का लाल होना – छुपी हुई प्रतीभा।
गुरु घंटाल – दुष्टों का नेता।
गुल खिलाना – ऐसा कार्य करना जो दूसरों को उचित न लगे।
गूंगे का गुड़ – वह सुख का अनुभव जिसका वर्णन न किया जा सके।
गूलर का कीड़ा – अल्पज्ञा व्यक्ति।
गूलर का फूल – दुर्लभ का व्यक्ति या वस्तु।
गेहूं के साथ घुन पिसना – दोषी के साथ निर्दोष पर भी संकट आना।
गोबर गणेश – निरा मूर्ख।
घड़ी में तोला घड़ी में माशा – अस्थिर चित्त वाला व्यक्ति।
घड़ों पानी पड़ना – बहुत लज्जित होना।
घर फूंककर तमाशा – खुद का नुकसान करके देखना मौज करना।
घर में गंगा बहाना – बिना कठिनाई के कोई अच्छी वस्तु पास में ही मिल जाना।
घाट-घाट का पानी पीना – बहुत अनुभवी होना।
घाव पर नमक छिड़कना – दुखी को और दुख देना।
घाव हरा होना – भूला हुआ दुख फिर याद आ जाना।
घास खोदना – व्यर्थ समय गंवाना।
घास न डालना – सहायता न करना।
घी के दिये जलाना – बहुत खुशियां मनाना।
घुटने टेक देना – हार मान लेना।
घूंघट का पट खोलना – अज्ञान का परदा दूर करना।
घोड़ा बेंचकर सोना – निश्चिंत होना।
चंद्रमा बलवान होना – भाग्य अनुकूल होना।
चट कर जाना – सबका सब का जाना।
चप्पा-चप्पा छान मारना – हर जगह ढूंढ लेना।
चरणों की धूल – किसी की तुलना में अत्यंत नगग्य व्यक्ति।
चलता करना – भगा देना।
चलती च€की में रोड़ा अटकाना – कार्य में बाधा डालना।
चांदी कटना – खूब लाभ होना।
चांदी का जूता – घूस का धन।
चांदी होना – लाभ ही लाभ होना।
चादर तानकर सोना – निश्चिंत होना।
चादर देखकर पांव फैलाना – आय के अनुसार व्यय करना।
चादर से बाहर पैर पसारना – आमदनी से अधिक खर्च करना।
चार चांद लगना – सौंदर्य की वृद्धि करना।
चार दिन की चांदनी – अस्थायी वैभव।
चिकना घड़ा होना – कोई प्रभाव न पडऩा।
चिकनी-चुपड़ी बातें करना – चापलूसी करना।
चिड़िया का दूध – अप्राप्य वस्तु।
चिराग तले अंधेरा – दूसरों को उपदेश देना लेकिन खुद अच्छा आचरणा नहीं करना।
चींटी के पर निकलना – नष्ट होने के करीब होना।
चुटिया हाथ में होना – वश में होना।
चुल्लू भर पानी में डूब मरना – लज्जा का अनुभव करना।
चूड़ियां पहनना – कायर बनना।
चूना लगाना – ठग लेना।
चूना लगाना – धोखा देना।
चेहरे पर हवाइयां उड़ना – घबरा जाना।
चैन की बंशी बजाना – सुख से रहना।
चोटी का – सर्वोत्तम।
चौदहवीं का चांद – बहुत सुंदर।
छ€क्के छुड़ाना – बुरी तरह हरा देना।
छठी का दूध याद आना – घोर संकट में पड़ना।
छप्पर फाड़कर देना – अचानक लाभ होना।
छाती पर पत्थर रखना – चुपचाप दुख सहन करना।
छाती पर मूंग दलना – बहुत परेशान करना।
छाती पर सांप लोटना – बहुत ईर्ष्या करना।
छूमंतर होना – गायब हो जाना।
छोटे मुंह बड़ी बात करना – अपनी हैसियत से ज्यादा बात कहना।
जंगल में मंगल होना – उजाड़ में चहल-पहल होना।
जबान पर चढ़ना – याद आना।
जबान में लगाम न होना – बेमतलब बोलते जाना।
जमीन आसमान एक करना – सब उपाय कर डालना।
जमीन पर पैर न रखना – अधिक घमंड करना।
जलती आग में कूदना – विपत्ति में पड़ना।
जलती आग में घी डालना – और भडक़ाना।
जहर उगलना – कड़वी बातें करना।
जहर का घूंट पीना – असह्य बात सहन कर लेना।
जान के लाले पड़ना – गंभीर संकट में पड़ना।
जान पर खेलना – मुसीबत में रहकर काम करना।
जान हथेली पर रखना – प्राणों की परवाह न करना।
जी का जंजाल – व्यर्थ का झंझट।
जी चुराना – किसी काम से दूर भागना।
जीती म€क्खी निगलना – जानबूझकर बेईमानी करना।
जूतियों में दाल बांटना – लड़ाई झगड़ा हो जाना।
जोड़-तोड़ करना – उपाय करना।
झक मारना – व्यर्थ परिश्रम करना।
झाड़ू फिराना – सब कुछ बर्बाद कर देना।
झोली भरना – अपेक्षा से अधिक देना।
टका-सा जवाब देना – रूखा जवाब देना या मना करना।
टका-सा मुंह लेकर रह जाना – लज्जित हो जाना।
टांय-टांय फिस हो जाना – काम बिगड़ जाना।
टूट पड़ना – सहसा आक्रमण कर देना।
टेढ़ी उंगली से घी निकालना – शक्ति से कार्य सिद्ध करना।
टेढ़ी खीर – कठिन काम।
टोपी उछालना – अपमान करना।
ठंडा पड़ना – क्रोध शांत होना।
ठीकरा फोड़ना – दोष लगाना।
ठोकर खाना – हानि उठाना।
डंका बजाना – प्रभाव जमाना।
डंके की चोट कहना – स्पष्ट कहना।
डकार जाना – माल पचा जाना।
ढाई दिन की बादशाहत – थोड़े दिन की मौज।
ढिंढोरा पीटना – सबको बताना।
ढोल में पोल होना – सारहीन।
तार-तार होना – पूरी तरह फट जाना।
तारे गिनना – रात को नींद न आना।
तितर-बितर होना – बिखर कर भाग जाना।
तिल का ताड़ करना – बढ़ा चढ़ाकर बातें करना।
तीन का तेरह होना – अलग-अलग होना।
तूती बोलना – खूब प्रभाव होना।
तेवर चढ़ाना – गुस्सा होना।
थाह लेना – पता लगाना।
दमड़ी के लिए चमड़ी उधेड़ना– मामूली सी बात के लिए भारी दंड देना।
दांत उखाड़ना – कड़ा दंड देना।
दांत काटी रोटी होना – घनिष्ठ मित्रता।
दांत खट्टे करना – हराना।
दांत पीसना – क्रोध करना।
दांत फाड़ना – हंसना।
दांतों तले उंगली दबाना – आश्चर्य करना।
दाना-पानी उठना – जगह छोडऩा।
दाल न गलना – सफल न होना।
दाल में काला होना – संदेहपूर्ण होना।
दाहिना हाथ होना – अत्त विश्वासपात्र बनना।
दिन दूनी रात चौगुनी होना – बहुत जल्दी-जल्दी होना।
दिन में तारे दिखाई देना – अजीब हालत होना।
दिन-रात एक करना – खूब परिश्रम करना।
दूध का दूध और पानी का पानी – उचित न्याय करना।
दूध का धुला होना – निर्दोष या निष्कलंक होना।
दूध के दांत न टूटना – ज्ञान और अनुभव का न होना।
दृष्टि फेरना – अप्रसन्न होना।
दो दिन का मेहमान – जल्दी मरने वाला।
दो नावों पर पैर रखना – एक साथ दो लक्ष्यों को पाने की चेष्टा करना।
दौड़-धूप करना – कठोर श्रम करना।
धज्जियां उड़ाना – नष्ट-भ्रष्ट करना।
धरती पर पांव न पड़ना – अभिमान में रहना।
धूप में बाल सफेद करना – अनुभवहीन होना।
धूल फांकना – व्यर्थ में भटकना।
नमक मिर्च लगाना – बढ़ा-चढ़ाकर कहना।
नाक कटना – बदनामी होना।
नाक का बाल होना – किसी के ज्यादा निकट होना।
नाक पर म€क्खी न बैठने देना – अपने पर आंच न आने देना।
नाक में दम करना – बहुत तंग करना।
नाक रखना – मान रखना।
नाक रगड़ना – दीनता दिखाना।
नाकों चने चबाना – बहुत तंग करना।
नानी याद आना – कठिनाई में पड़ना।
निन्यानवें के फेर में पड़ना – पैसा जोड़ने के च€कर में पड़ना।
नीला-पीला होना – गुस्से होना।
नौ दिन चले अढ़ाई कोस – बहुत धीमी गति से कार्य करना।
नौ दो‚ग्यारह होना – भागना।
पगड़ी उछालना – बेइज्जत करना।
पहाड़ टूट पडऩा – भारी विपत्ति आ जाना।
पांचों उंगलियां घी में होना – सब ओर से लाभ होना।
पांव उखड़ना – हारकर भाग जाना।
पानी का मोल होना – बहुत सस्ता।
पानी फेर देना – निराश कर देना।
पानी भरना – तुच्छ लगना।
पानी-पानी होना – लज्जित होना।
पीठ दिखाना – भाग जाना।
पेट काटना – खुद पर थोड़ा खर्च करना।
पेट बांधकर रहना – भूखे रहना।
पेट में चूहे दौड़ना – भूख लगना।
पेट में दाढ़ी होना – दिखने में सीधा, लेकिन चालाक होना।
पैर चूमना – खुशामद करना।
पैर जमीन पर न टिकना – बहुत प्रसन्न होना।
पैरों तले से जमीन खिसक जाना – होश उड़ जाना।
पौ बारह होना – खूब लाभ होना।
प्राण हथेली पर लिए फिरना – जीवन की परवाह न करना।
फूंक-फूंककर कदम रखना – सावधानी बरतना।
फूटी आंख न सुहाना – अच्छा न लगना।
फूलकर कूप्पा होना – बहुत खुश या बहुत नाराज होना।
फूला न समाना – अत्यधिक खुश होना।
बखिया उधेड़ना – भेद खोलना।
बट्टा लगना – कलंक लगना।
बांए हाथ का खेल – बहुत सरल काम।
बांछे खिल जाना – अत्यंत प्रसन्न होना।
बाजार गर्म होना – धंधा तेज होना।
बात का धनी होना – वचन का प€का होना।
बाल की खाल निकालना – बहुत तर्क-वितर्क करना।
बाल बांका न होना – कुछ भी नुकसान न होना।
बिल्ली के गल्ले घंटी बांधना – खुद को मुसीबत में डालना।
बेपेंदी लोटा – पक्ष बदलने वाला।
भंडा फोडऩा – भेद खोल देना।
भाड़ झोंकना – समय व्यर्थ खोना।
भाड़े का टट्टू – पैसे लेकर काम करने वाला।
भीगी बिल्ली बनना – सहम जाना।
भैंस के आगे बीन बजाना – मूर्ख आदमी को उपदेश देना।
मन के लड्डू – कल्पना करना।
मन हारना – हिम्मत हारना।
मिट्टी का माधो – बिल्कुल बुद्धू।
मिट्टी खराब करना – बुरा हाल करना।
मिट्टी में मिल जाना – बर्बाद होना।
मुंह उतरना – उदास होना।
मुंह खून लगना – आदत पड़ जाना।
मुंह ताकना – किसी पर आश्रित होना।
मुंह में पानी भर आना – खाने की इच्छा होना।
मुट्ठी गर्म करना – रिश्वत देना।
मुट्ठी में होना – वश में होना।
मोहर लगा देना – पुष्टि करना।
रंग उडऩा – घबरा जाना।
रंग बदलना – परिवर्तन होना।
रंग में भंग पड़ना – आनंदपूर्वक कार्य में बाधा पड़ना।
राई का पहाड़ बनाना – बात को बढ़ा-चढ़ाकर प्रस्तुत करना।
रोंगटे खड़े होना – डर से रोमांचित होना।
रोड़ा अटकाना – बाधा डालना।
रोम-रोम खिल उठना – प्रसन्न होना।
लंगोटी में फाग खेलना – गरीबी में आनंद लूटना।
लकीर का फकीर होना – परंपरावादी मानना।
लकीर पीटना – पुरानी रीति पर चलना।
लड़ाई मोल लेना – झगड़ा पैदा करना।
लहू का घूट पीना – अपमान सहन करना।
लुटिया डुबोना – काम बिगाड़ना।
लेने के देने पड़ना – लाभ के स्थान पर हानि होना।
लोहा मानना – किसी की ताकत स्वीकार करना।
लोहे के चने चबाना – मुश्किल काम करना।
विष उगलना – द्येषपूर्ण बातें करना।
शैतान की आंत – लंबी बात।
शैतान के कान कतरना – बहुत चालाक होना।
श्रीगणेश करना – शुरु करना।
सŽब्ज बाग दिखाना – कोरा लोभ देकर बहकाना।
सांप को दूध पिलाना – दुष्ट की रक्षा करना।
सांप सूंघ् जाना – चुप हो जाना।
सांप-छछूंदर की गति होना – दुविधा की दशा होना।
सिर आंखों पर रखना – आदर सहित आज्ञा मानना।
सिर उठाना – विद्रोह करना।
सिर ओखली में देना – जान-बूझकर मुसीबत मोल लेना।
सिर चढ़ाना – अधिक लाड़ लड़ाना।
सिर धुनना – पछताना।
सिर नीचा करना – लज्जित करना।
सिर पर कफन बांधना – बलिदान के लिए तैयार होना।
सिर पर खून सवार होना – मरने-मारने को तैयार होना।
सिर पर चढ़ाना – मनमानी करने की छूट देना।
सिर पर पांव रखकर भागना – तेजी से भागना।
सिर पर भूत सवार होना – धुन लगाना।
सिर पर हाथ होना – सहारा होना।
सिर मढ़ना – जिम्मे लगाना।
सिर मुंड़ाते ओले पड़ना – काम शुरू होते ही बाधा आना।
सिर से पानी गुजरना – सहनशीलता समाप्त होना।
सींग काटकर बछड़ों में मिलना – बूढ़े होकर भी बच्चो की तरह काम करना।
सोने पर सुहागा होना – अच्छी वस्तु का और अधिक अच्छा होना।
हथेली पर जान लिए फिरना – मरने की परवाह न करना।
हथेली पर सरसों उगना – कम समय में बड़ा काम करना।
हवा का रुख पहचानना – अवसर पहचानना।
हवा पलटना – समय बदल जाना।
हवा से बातें करना – बहुत तेज दौड़ना।
हवाई किले बनाना – कोरी कल्पना करना।
हाथ का मैल – साधारण चीज।
हाथ को हाथ न सूझना – घना अंधकार होना।
हाथ खाली होना – रुपया-पैसा न होना।
हाथ खींचना – साथ न देना।
हाथ डालना – शुरू करना।
हाथ धोकर पीछे पड़ना – पीछा न छोड़ना।
हाथ पे हाथ धरकर बैठना – बिना काम के बैठे रहना।
हाथ फैलाना – मांगना।
हाथ मलना – पछताना।
हाथ में करना – अपने वश में करना।
हाथ साफ करना – चोरी करना।
हाथ-पांव फूलना – घबरा जाना।
हाथ-पांव मारना – कोशिश करना।

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *