महान भौतिकीविद स्टीफन हॉकिंग का निधन


महान भौतिकीविद और ब्रह्मांड विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग का 76 साल की उम्र में 14 मार्च को निधन हो गया। उनका निधन लंदन के कैम्ब्रिज में उनके घर पर हुआ। स्टीफन हॉकिंग एक दुर्लभ बीमारी amyotrophic lateral sclerosis (ALS) से ग्रसित थे।


हॉकिंग 1963 में मोटर न्यूरॉन बीमारी के शिकार हुए और डॉक्टरों ने कहा कि उनके जीवन के सिर्फ दो साल बचे हैं। लेकिन वह पढ़ने के लिए कैम्ब्रिज चले गये और एल्बर्ट आइंस्टिन के बाद दुनिया के सबसे महान सैद्धांतिक भौतिकीविद बने। उनके पास 12 मानद डिग्रियां हैं। हॉकिंग के कार्य को देखते हुए अमेरिका का सबसे उच्च नागरिक सम्मान उन्हें दिया जा चुका है। ब्रह्मांड के रहस्यों पर उनकी किताब 'अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम' काफी चर्चित हुई थी।


स्टीफन हॉकिंग : एक परिचय
● स्टीफन हॉकिंग का 8 जनवरी, 1942 को इंग्लैंड को ऑक्सफर्ड में सेंकड वर्ल्ड वॉर के समय जन्म हुआ था।
● विश्व भर में मशहूर महान भौतिकीविद और ब्रह्मांड विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग को ब्लैक होल्स पर उनके काम के लिए जाना जाता है।
● 1963 में स्टीफन हॉकिंग जब सिर्फ 21 साल के थे, तब उन्हें Amyotrophic Lateral Sclerosis (ALS) नाम की बीमारी हो गई। इसके चलते उनके अधिकतर अंगों ने धीरे-धीरे काम करना बंद कर दिया था। इस बीमारी से पीड़ित लोग आमतौर पर 2 से 5 साल तक ही जिंदा रह पाते हैं, लेकिन वह दशकों जिए।
● महज 21 साल की उम्र में बीमार होने के बाद भी उन्होंने अपनी पढ़ाई को जारी रखा और तमाम चौंकाने वाले शोध दुनिया के सामने रखे। हॉकिंग एक वीलचेयर के सहारे चल पाते थे और एक कम्प्यूटर सिस्टम के जरिए पूरी दुनिया से जुड़ते थे।
● 1988 में उन्हें सबसे ज्यादा चर्चा मिली थी, जब उनकी पहली पुस्तक 'ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम: फ्रॉम द बिग बैंग टु ब्लैक होल्स' मार्केट में आई।
● इसके बाद कॉस्मोलॉजी पर आई उनकी पुस्तक की 1 करोड़ से ज्यादा प्रतियां बिकी थीं। इसे दुनिया भर में साइंस से जुड़ी सबसे ज्यादा बिकने वाली पुस्तक माना जाता है।
● स्टीफन हॉकिंग वीलचेयर के जरिए ही मूव कर पाते थे। इस बीमारी के साथ इतने लंबे अरसे तक जिंदा रहने वाले स्टीफन हॉकिंग पहले व्यक्ति थे।
● स्टीफन हॉकिंग की 
2014 में प्रेरक जिंदगी पर आधारित फिल्म 'द थिअरी ऑफ एवरीथिंग' रिलीज हुई थी।
● प्रोफेसर स्टीफन हॉकिंग ने 1965 में 'प्रॉपर्टीज ऑफ एक्सपैंडिंग यूनिवर्सेज' विषय पर अपनी पीएचडी पूरी की थी।

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *