आज का इतिहास 21 नवम्बर (देश-विदेश)


आज ही के दिन यानि 21 नवम्बर को भारत सहित विश्व इतिहास की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार है–

1571 – दिल्ली के शासक सिकंदर लोदी का निधन हुआ।
1694 – फ़्रांस के प्रसिद्ध दार्शनिक तथा लेखक फ्रान्कोइस मैरी आरोए का जन्म हुआ वे वॉल्टर के नाम से प्रसिद्ध हुए।



1783 – पहली बार आकाश में गुब्बारे अथवा बैलून द्वारा मनुष्य ने उड़ने का प्रयास किया इस गुब्बारे में दो लोग सवार थे इनमें एक फ़्रांस के भौतिक शास्त्री डयूरेज़ थे। डयूरेज़ ने शिक्षा प्राप्ति के काल से ही उड़ने की योजना बनाई थी।
1806 – नेपोलियन बोनापार्ट की ओर से बर्लिन आदेश जारी हुआ। इस आदेश के अनुसार फ़्रांस के प्रभाव वाले समस्त योरोपीय देशों के ब्रिटेन के साथ व्यापार पर प्रतिबंध लगा दिया गया।
1818 – रूस के जार अलेक्सजेंदर प्रथम ने फलस्तीन में यहूदी राज्य स्थापित करने की अनुशंसा की।

यह भी जानें : 20 नवम्बर की भारत सहित विश्व की प्रमुख घटनाएं

1867 – लक्ज़मबर्ग को एक स्वतंत्र राष्ट्र घोषित किया गया। किंतु इसके बाद भी यह देश हॉलैंड से जुड़ा रहा।
1870 – आॅस्ट्रेलिया के सबसे सफल किक्रेट कप्तानों में से एक जो डॉर्लिंग का जन्म हुआ।
1871 – न्यूयॉर्क के मोसेस एफ गेल ने सिगार लाइटर का पेटेंट कराया।
1877 – अमेरिकी वैज्ञानिक थॉमस एल्वा एडिसन ने दुनिया के सामने पहला फोनोग्राफ पेश किया, जिस पर आवाज को रिकॉर्ड किया जा सकता था और बाद में सुना भी जा सकता था।
1906 – चीन ने अफीम के कारोबार पर रोक लगाई।
1921 – प्रिंस ऑफ वेल्स (सम्राट एडवर्ड अष्टम) बाम्बे (अब मुंबई) पहुंचे और कांग्रेस ने देशव्यापी हड़ताल का ऐलान किया।

पढ़े : भारतीय व विश्व इतिहास में 22 नवम्बर का दिन

1947 – आजादी के बाद देश में पहली बार डाक टिकट जारी किया गया।
1962 – भारत-चीन सीमा विवाद के दौरान चीन ने संघर्षविराम का ऐलान किया।
1963 – केरल के थुंबा क्षेत्र से रॉकेट छोड़े जाने के साथ ही भारत का अंतरिक्ष कार्यक्रम शुरु हुआ।
1965 – तत्कालीन सोवियत संघ ने पूर्वी कजाकिस्तान में परमाणु परीक्षण किया।
1970 – भौतिक विज्ञानी सी.वी. रमन का निधन हुआ।
1986 – मध्य अफ्रीकी गणराज्य ने संविधान अंगीकार किया।
1989 – ब्रिटिश संसद के निम्न सदन हाउस आॅफ कॉमंस में पहली बार कैमरे लगाए गए।
2002 – बुल्गारिया,इस्तोनिया, लातविया, लिथुआनिया, रोमानिया, स्लोवाकिया और स्लेवानिया को नाटो ने संगठन का सदस्य बनने का निमंत्रण दिया।

Loading...

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *