आज का इतिहास 22 अक्टूबर (देश-विदेश)


आज ही के दिन यानि 22 अक्टूबर को भारत सहित विश्व इतिहास की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार है–

794 – जापानी सम्राट कनमू ने राजधानी को हेईयांको (वर्तमान टोक्यो) में स्थानांतरित की।
1494 – इतालवी नाविक क्रिस्टोफ़र कोलंबस ने अपनी दूसरी खोजी समुद्री यात्रा आंरभ की। जिसमें कोलंबस ने एंटील द्वीप समूह की खोज की।
1680 – मेवाड़ के राणा राज सिंह का निधन हुआ।
1796 – पेशवा माधव राव द्वितीय ने आत्महत्या की।
1867 – नेशनल यूनिवर्सिटी आॅफ कोलंबिया की आधारशिला रखी गई।
1873 – धार्मिक नेता स्वामी रामतीर्थ का जन्म हुआ।
1875 – अर्जेंटिना में पहले टेलीग्राफिक कनेक्शन की शुरुआत हुई।
1879 – अमेरिकी खोजकर्ता थॉमस एडीसन ने एक उच्च प्रतिरोधक कार्बन फिलामेंट का पहला सफल प्रयोग किया।

यह भी जानें : 21 अक्टूबर की भारत सहित विश्व की प्रमुख घटनाएं

1879 – ब्रिटिश शासन में पहला राजद्रोह का मुकदमा महान क्रांतिकारी बसुदेव बलवानी फड़के के खिलाफ चला।
1879 – विश्व का पहला कार डीलर शोरूम लंदन में खुला।
1883 – न्यूयार्क में ओपेरा हाउस का उद्घाटन हुआ।
1918 – प्रथम विश्व युद्ध का अंतिम चरण जर्मन सेना पर संयुक्त सेना के आक्रमण के साथ आरंभ हो गया।
1953 – लाओस को फ्रांस से पूरी तरह से आजादी मिली।
1954 – संघीय गणराज्य जर्मनी को उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया।

पढ़े : भारतीय व विश्व इतिहास में 23 अक्टूबर का दिन

1962 – प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने भारत की सबसे बड़ी बहुउद्देशीय नदी घाटी परियोजना 'भाखड़ा नांगल' राष्ट्र को समर्पित की गई।
1964 – फ्रांसीसी दार्शनिक और लेखक ज्यां पाल सार्त्र ने नोबेल पुरस्कार ठुकराया।
1975 – तुर्की के राजनयिक की वियना में गोली मारकर हत्या हुई।
1975 – 'वीनस-9' अंतरिक्षयान का शुक्र ग्रह पर अवतरण हुआ।
1979 – ईरान के अपदस्थ शाह मोहम्मद रिजा पहलवी को इलाज के लिए अमेरिका जाने की अनुमति दी गई।
1981 – अमेरिका का राष्ट्रीय कर्ज एक खरब डॉलर को पार किया।
1986 – अमेरिकी राष्ट्रपति रीगन ने 1986 के कर सुधार अधिनियम पर हस्ताक्षर किए।
1998 – संयुक्त राष्ट्र ने 1987 के बाद से युद्ध में 20 लाख निर्दोष बच्चों के मारे जाने की घोषणा की।
2007 – चीनी राष्ट्रपति हू जिंताओ ने लगातार दूसरी बार सत्तारूढ़ चीनी कम्यूनिस्ट पार्टी की कमान सम्भाली।
2008 – इसरो ने भारत के पहले चंद्रमा मिशन चंद्रयान-1 का प्रक्षेपण किया। इस मिशन से चंद्रमा पर पानी के होने का पता लगा।

Loading...

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *