आज का इतिहास 17 अक्टूबर (देश-विदेश)


आज ही के दिन यानि 17 अक्टूबर को भारत सहित विश्व इतिहास की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार है–

1605 – मुगल शासक अकबर का निधन हुआ।
1806 – हैती क्रांति के पूर्व नेता और हैती के सम्राट जैक्स प्रथम की उनके दमनकारी शासन के बाद हत्या कर दी गयी।
1817 – अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के संस्थापक सैयद अहमद खां का दिल्ली में जन्म हुआ।
1870 – कलकत्ता बंदरगाह को एक संवैधानिक निकाय प्रबंधन के तहत लाया गया।
1878 – जॉन ए मैकडॉनाल्ड पांच वर्ष तक सरकार में विपक्ष की भूमिका निभाने के बाद एक बार फिर कनाडा के प्रधानमंत्री चुने गये।
1888 – वैज्ञानिक थामस अल्वा एडिसन ने ऑप्टिकल फोनोग्राफ के पेटेंट के लिए आवेदन किया।
1904 – बैंक ऑफ इटली को आम लोगों के लिए खोला गया।
1906 – स्वामी राम तीर्थ का निधन हुआ।

यह भी जानें : 16 अक्टूबर की भारत सहित विश्व की प्रमुख घटनाएं

1912 – बुल्गारिया, यूनान और सर्बिया ने ओटोमन साम्राज्य के खिलाफ लड़ाई की घोषणा की।
1917 – प्रथम विश्व युद्ध में ब्रिटेन ने पहली बार जर्मनी पर हवाई हमले किये।
1918 – युगोस्लाविया ने खुद को गणतंत्र देश घोषित किया।
1920 – भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना ताशकंद में की गयी।
1923 – प्रसिद्ध लेखिका शिवानी का जन्म हुआ।
1933 – महान वैज्ञानिक अलर्बट अंस्टाइन ने जर्मनी छोड़ अमेरिका में शरण ली।
1940महात्मा गांधी ने निजी सत्याग्रह की घोषणा की।

पढ़े : भारतीय व विश्व इतिहास में 18 अक्टूबर का दिन

1941 – द्वितीय विश्व युद्ध में पहली बार जर्मनी की पनडुब्बी ने एक अमेरिकी पोत पर हमला किया।
1956 – इंग्लैंड में पहला बड़ा न्यूक्लियर पावर स्टेशन शुरू हुआ।
1970 – भारतीय किक्रेट टीम के पूर्व लेग स्पिनर और कप्तान अनिल कुंबले का कर्नाटक की राजधानी बेंगलोर (अब बेंगलुरु) में जन्म हुआ। इन्होंने अपने करियर में 619 टेस्ट और 337 वनडे विकेट चटकाए।
1973 – तेल निर्यातक अरब देशों ने इस्राईल को तेल बेचने वाली कंपनियों और अमरीका व ब्रिटेन पर प्रतिबंध लगा दिया।
1977 – कनाडा ने संसद का लगातार सीधा टीवी प्रसारण शुरू किया।
1983 – फ़्रांस के समाज शास्त्री रेमन्ड आरोन का निधन हुआ।
2003 – चीन ने अंतरिक्ष में एशिया के पहले और रूस के बाद तीसरे देश के रूप में अंतरिक्ष में मानव भेजने में सफलता प्राप्त की।
2009 – हिंद महासागर में स्थित मालदीव ने पानी के अंदर दुनिया की पहली कैबिनेट बैठक कर सभी देशों को ग्लोबल वार्मिंग के खतरे से आगाह करने की कोशिश की।

Loading...

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *