अमेरिकी सिंगर बॉब डिलन को साहित्य का नोबेल मिला

अमेरिका के मशहूर गीतकार एवं संगीतकार बॉब डिलन (Bob Dylan) को 13 अक्टूबर, 2016 को साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। 75 वर्षीय डिलन पहले गीतकार हैं, जिनको इस प्रतिष्ठित पुरस्कार से नवाजा गया है।

साहित्य का नोबेल पुरस्कार प्रदान करने वाली स्वीडिश अकादमी ने बताया कि डिलन को अमेरिकी गीतों को नया काव्यात्मक आयाम देने के लिए साहित्य के नोबेल पुरस्कार से नवाजा जा रहा है। इतिहास में पहली बार गीत के लिए साहित्य का नोबेल प्रदान किया गया है। उनकी 10 दिसंबर को विशेष समारोह में पुरस्कार के रूप में गोल्ड मेडल, प्रमाण पत्र और करीब छह करोड़ छह लाख रुपये (नौ लाख छह हजार डॉलर) की धनराशि प्रदान की जाएगी।

डिलन के गीत सिर्फ अमेरिका में ही नहीं, बल्कि दुनिया भर में काफी लोकप्रिय हैं। उनके द्वारा गाए गए गीत Blowin'in the Wind और They are A-Changin पूरे अमेरिका के साथ-साथ दुनिया में युद्ध विरोधी और नागरिक अधिकारों के के गीत बन गए। उनका पारंपरिक गीतों से पलायन करना पूरी दुनिया के लिए बेहद फायदेमंद साबित हुआ।

यह भी पढ़े : जानिये, अब तक कितने लोगों को मिल चुका है साहित्य का नोबेल

पिछले साल साहित्य का नोबेल रूस की लेखक स्वेतलाना एलेक्सीविच को महिलाओं के संघर्ष पर लिखने के लिए मिला था।

बॉब डिलन : एक परिचय
बॉब डिलन का जन्म 24 मई, 1941 को अमेरिका के Duluth, Minnesota में हुआ था। उनका पालन-पोषण मिनेसोटा के हिबिंग शहर में मध्यम वर्गीय यहूदी परिवार में हुआ। उनके बचपन का नाम रॉबर्ट ऐलेन जिमरमैन था। वह 1961 में न्यूयॉर्क पहुंचे और क्लब एवं कैफे में प्रस्तुति देने लगे। इसके बाद 1962 में रिकॉर्ड प्रोड्यूसर जॉन हमंड के साथ बॉब डिलन एलबम के लिए करार किया। यह उनके कॅरियर का पहला एलबम था। इसके बाद उनके ​'ब्रिगिंग इट आॅल बैक् होम', 'हाइवे 61 रिविजिटेड', 'ब्लोंडे ऑन ब्लोंडे' और 'ब्लड ऑन द ट्रैक्स' प्रकाशित हुए, जिनको काफी लोकप्रियता हासिल हुई। डिलन के 'ब्लोविन इन द​ विंड' और 'द टाइम्स दे आर ए-चानगिन' का अमेरिकी आंदोलनों में खूब इस्तेमाल किया गया। उनको किशोरावस्था से ही संगीत में बड़ी रुचि है। 

Loading...

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *