केवी कामत बने ब्रिक्स बैंक के पहले अध्यक्ष


भारतीय बैंकिंग क्षेत्र के एक प्रमुख हस्ती और निजी क्षेत्र के आईसीआईसीआई बैंक के गैर-कार्यकारी चेयरमैन केवी कामत को ब्रिक्स बैंक का प्रमुख नियुक्त किया गया है। वह अध्यक्ष पद पर पांच साल तक रहेंगे। इस बैंक की स्थापना ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों के समूह ने की है।

नव विकास बैंक एक साल में अपना कारोबार शुरू कर सकता है। ब्राजील में पिछले वर्ष 2014 में हुए ब्रिक्स सम्मेलन में विभिन्न देशों के नेताओं ने 100 अरब डॉलर प्रारंभिक पूंजी के साथ नए विकास बैंक की स्थापना के लिए समझौता किया था। इस बैंक का मुख्यालय शंघाई में है। समझौते के मुताबिक, इस बैंक के पहले अध्यक्ष को निर्वाचित करने का अधिकार भारत के पास है।

भारत पहले छह वर्षों तक इस बैंक की अध्यक्षता करेगा। इसके बाद ब्राजील और रूस पांच-पांच सालों की अवधि तक इसकी कमान संभालेंगे।

ब्रिक्स देशों का सम्मिलित सकल घरेलू उत्पाद  16,000 अरब डालर है और ये वैश्विक आबादी के 40 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व करते हैं। नव विकास बैंक 50 अरब डालर की शुरूआती चुकता पूंजी से की जा रही है। इसमें हर सदस्य का योगदान 10 अरब डालर है।

विकासशील देशों में ढांचागत संरचना के विकास के लिए कोष उपलब्ध कराने पर ब्रिक्स बैंक का मुख्य ध्यान होगा। उल्लेखनीय है कि ब्रिक्स के सदस्य देशों की अर्थव्यवस्था इस समय दुनिया में तेजी से विकसित होती अर्थव्यवस्था के रूप में पहचानी जा रही है।

कामत अप्रैल, 2009 में आईसीआईसीआई बैंक के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पद से सेवानिवृत्त हो गए थे। उनके पास एशियाई विकास बैंक में भी काम करने का अनुभव है। कामत 2008 में भारत के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्मभूषण से सम्मानित हो चुके हैं।

Loading...

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *