Direct Cash Transfer Scheme (डायेरक्ट कैश ट्रांसफर स्कीम)


Direct Cash Transfer (DCT) Scheme 
डायेरक्ट कैश ट्रांसफर (डीसीटी) स्कीम


क्या है यह योजना ?
विगत वर्ष प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने डायेरेक्ट कैश ट्रांसफर (डीसीटी) स्कीम की घोषणा की थी। इस स्कीम के मुताबिक गरीबों को मिलने वाली सब्सिडी नकद के रूप में सीधे उनके बैंक अकाउंट में आधार कार्ड के जरिए ट्रांसफर की जाएगी। योजना के पहले चरण में 1 जनवरी, 2013 से देश के 51 जिलों में इसे शुरू किया गया है। वहीं 1 अप्रैल, 2013 को देश के 18 राज्यों में इसकी शुरुआत कर दी जाएगी। अन्य राज्यों में यह योजना 1 अप्रैल, 2014 से लागू होगी।  

योजना के फायदे
सरकार इस योजना से भ्रष्ट्राचार पर अंकुश लगाने और सब्सिडी पर मिलने वाली वस्तुओं के दुरुपयोग को रोकने के लिए कर रही है। साथ ही, सरकार को गरीबों तक सीधे पहुंचने में मदद भी मिलेगी। मौजूदा व्यवस्था के तहत राशन की दुकान वाले लोग सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) में मिलने वाले अनाज और केरोसीन को खुले बाजार में बेच देते हैं और गरीबों को सही समय पर उचित मात्रा में लाभ नहीं पहुंच पाता। इस योजना से बिचौलियों की मनमानी खत्म होगी।

योजना की प्रक्रिया
आधार कार्ड के जरिए सब्सिडी का पैसा सीधे संबंधित लोगों के बैंक अकाउंट में जाएगा। एलपीजी, केरोसीन, पेंशन, स्कालरशिप, रोजगार गारंटी और अन्य सभी कल्याणकारी योजनाओं में मिलने वाली मदद सीधे लाभार्थी तक पहुंचेगी। पैसे का इस्तेमाल लोग अपनी सुविधा और जरूरत के लिए कर सकेंगे।

योजना में आशंकाएं
यह सवाल भी सामने आने लगे हैं कि इस सब्सिडी से मिलने वाले पैसा का इस्तेमाल उस जरूरत के लिए नहीं किया जाएगा, जिसके लिए इसे दिया जा रहा है। कुछ लोग इसका गलत इस्तेमाल भी कर सकते है।

योजना की कमियां
इस योजना में सिर्फ आधार कार्ड प्राप्त लोगों को डायेरेक्ट कैश ट्रांसफर सुविधा प्रदान की गई है। जबकि वर्तमान स्थिति के अनुसार 120 करोड़ लोगों में से सिर्फ 21 करोड़ के पास ही आधार कार्ड हैं। 

दूसरी कमी यह है कि बहुत से बीपीएल परिवारों के पास बैंक अकाउंट भी नहीं है। कई गांव ऐसे हैं, जहां बैंक की एक भी शाखा नहीं हैं।

Loading...

Comments & Contact Form

Name

Email *

Message *